Friday, 16 June 2017

वो नानी के घर गया, नवाजू के घर केक खाने नही गया: एक लेख भारतीय संस्कृति को बदनाम करते अभद्रजनों को नसीहत देता हुआ

दोस्तो, नया लेख लेकर हाजिर हूं आप सबकी अदालत में।
राहुल गांधी के ऑफिशियल ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट आया कि वो सफर में हैं और अपनी नानी और परिवार से मिलने जा रहे हैं तब ही उनके ऑफिशियल ट्वीटर अकाउंट पर ट्रोलियों की बाढ सी आ गई और राहुल गांधी को कोसने लगे और अपनी अभद्रता की हदों को पार करते हुये अपनी पार्टी और परिवार से मिले संस्कारों को दर्शाने लग गये।

ये ब्लॉग मैं उन ट्रोलियों/अभद्रजनों के लिये लेकर आया हूं जो राहुल के ट्वीटर अकाउंट पर अपनी संस्कृति का परिचय देते हुये भारतीय संस्कृति को बदनाम कर रहे थे।
हालांकि वो अभद्रजन अपनी तरफ से तो राहुल गांधी को बदनाम कर रहे थे लेकिन वो मंदबुद्धि अभद्रजन नही जानते कि वो जिस देश के नागरिक हैं वो उसी देश की संस्कृति को अभद्रता की ओर लेकर जाते हुये बदनामी की खाई की तरफ धकेल रहे थे।

आजकल ट्वीटर पर ट्रोलियों की संख्या मे इजाफा हो रहा है, ट्रोलिये दो प्रकार के होते हैं एक आधिकारिक ट्रोलिये/अभद्रजन जो अभद्र जनता पार्टी के बडे पदों पर रहते हुये ट्रोल करते हैं और दूसरी प्रकार के ट्रोलिये जो पार्टी के किसी पद पर नही होते लेकिन वो अभद्रता की हदों को पार करते हुये अपनी अभद्र जनता पार्टी को अपनी अभद्र होने की योग्यता को दर्शा कर अभद्र जनता पार्टी मे उच्च पद की ओर अग्रसर होने की कोशिश मे लगे रहते हैं।

IMG_20170603_221000

लेकिन दोस्तो, ट्रोल कहीं-कहीं जायज भी होता है जैसे कोई शख्स देश के खिलाफ या देश की किसी महान शख्सियत के खिलाफ बयानबाजी कर रहा हो जैसे पिछले दिनों भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने महात्मा गांधी को चतुर बनिया कहते हुये बेईज्जत करने की कोशिश की थी।


लेकिन राहुल गांधी के ऑफिशियल अकाउंट जो उनके ऑफिस से हैंडल किया जाता है उस अकाउंट से ट्वीट आया की "मैं अपनी नानी और परिवार से मिलने जा रहा हूं" तभी उनके ट्वीटरअकाउंट पर अभद्र जनता पार्टी के दोनों प्रकार के ट्रोलियों का हमला शुरू हो गया जो राहुल गांधी के परिवार को कोसते हुये उनकी निजी जिन्दगी के प्रति अभद्रता की हदों को पार करते कमेंट किये जाने लगे।


लेकिन मेरा ये ब्लॉग उन्ही दोनों प्रकार के ट्रोलियों को जवाब देने के लिये है जो राहुल गांधी के ट्वीटर अकाउंट पर अपने अभद्र संस्कारों को उजागर कर भारतीय संस्कृति को बदनाम कर रहे हैं।
ट्रोलियो/अभद्रजनों मेरा जवाब सुन लो, राहुल गांधी वो शख्स हैं जो उस परिवार से आते हैं जिसके परिवार ने कभी झुकना नही सीखा, जिसके परिवार ने देश की आजादी के लिये लडाई लडी और देश को एक मजबूत सुरक्षातंत्र दिया।
हां, ये राहुल गांधी अपनी नानी से मिलने जाता है लेकिन तुम्हारा नरेंद्र मोदी तो उस पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से मिलने जाता है जो जम्मू-कश्मीर मे आग लगाये रखता है जो भारत को आंतक की आग मे धकेले रखता है।
हमारा राहुल गांधी तो उसकी नानी के पास जाता है लेकिन तुम्हारा नरेंद्र मोदी तो बिन बुलाये पाकिस्तान नवाजू के जन्मदिन का केक खाने जाता है और उपहार स्वरूप पठानकोट एयरबेस पर आंतकी हमला लेकर आता है।
हमारा राहुल गांधी तो किसानों से मिलने उनके घर जाता है, लेकिन तुम्हारा नरेंद्र मोदी तो सरकारी खर्चे से विदेश सिर्फ प्रियंका चोपड़ा से मिलने जाता है।
हमारा राहुल गांधी तो दिल की बात सुनता है, लेकिन तुम्हारा नरेंद्र मोदी तो एक तरफा मन की बात सुनाता है।
हमारा राहुल गांधी देश के लिये मर-मिट जाना चाहता है लेकिन तुम्हारा नरेंद्र मोदी पाकिस्तान के 11कैदियों को सीमा पर इतने तनावपूर्ण माहौल के बावजूद छोड आता है।


दोस्तो, आज के लेख को यहीं पर विराम देना चाहूंगा, लेकिन फिर मिलूंगा एक नये लेख के साथ, दिल मे उभरी नई तरंग के साथ।

No comments:

Post a comment